Home / Videos / Viral Sach Full: Knowing the truth behind the viral video showing a boy insulting the tricolor | ABP News

Viral Sach Full: Knowing the truth behind the viral video showing a boy insulting the tricolor | ABP News




To incite hatred in the country, a man claiming to be a Muslim insulted the tricolor flag. He made this video and then made it viral on social media. Look at this man's true truth and viral video.


source

25 comments

  1. kahli khali musalmano ki badnami…..

  2. Mlc hai to kya huva ve marega pulis ko

  3. PURA vedio dekhe bad pata chala wo Hindu hai,but Hindu hoya Muslim,Desh k triranga ka apmaan hua hai..

  4. Ye Muslim hai ya nahi but ye Desh drohi hai.. Muslims ka Naam kharaab kardiya..aur Haan 1 Muslim ki wajah se SAB Ko Bura nahi bolna chahiye..musalmaan nahi karsakta hai…

  5. Very good boy pakistan zandabad I love my Pakistan 👍🇵🇰👍

  6. Ye Hai aneeta panday 😂😂😂
    aur Ladka Muslim inka..
    matlb love jihad

  7. log hr jgh mushlman k imandari ko shak ki nzr se dekhte h

  8. 14 sal ka h. bt ye to janta h n k ye apne desh ka jhanda h iska apman krna kitna glt h isi trh kai jgh muslman bina ksoor gltfahmi k shikar ho jate h

  9. MY HEARTFUL THANKS FOR ABP NEWS FOR PROVING THE FACT ABOUT THE BOY THAT HE IS NOT A MUSLIM ……..AND FOR REMOVING THE FAKE NEWS ON MUSLIMS….. THESE FAKE NEWS ONLY THE REASON FOR MISUNDERSTANDINGS BETWEEN HINDUS AND MUSLIMS……

  10. inn kutto ko kutto ki maut dena jaruri hai…mar k saley ki khal utar dena chahiye…

  11. chahe chota ho ya bada tirange ka apman krna galat hai, agr samman krna nhi aata to apman bhi nhi ho…..jessi krni wesi bharni.

  12. Jetne danga fsaad karaane wali baat hi sab gujrat se he vayral hota hai

  13. Well done by public kick his ass

  14. Arrest him if he is Hindu and born Indian

  15. संघ, बजरंगदल और भाजपा मुसलमानों के लिए खतरा हैं???

    मुस्लमान और हिन्दू = मार काट
    मुस्लमान और सिक्ख = मार काट
    मुस्लमान और जैन = मार काट
    मुस्लमान और ईसाई = मार काट
    मुस्लमान और बौद्ध = मार काट
    मुस्लमान और पारसी = मार काट
    मुस्लमान और यहूदी = मार काट
    मुस्लमान और नास्तिक = मार काट
    मुस्लमान और मुस्लमान = मार काट

    याने कि मार काट का एक पक्ष हमेशा मुसलमान ही रहेगा यह परम सत्य है. फिर भी मुस्लमान और भांड धर्मनिरपेक्ष हमेशा यही चिल्लाएंगे कि मुस्लमान खतरे में है, इस्लाम खतरे में है.

    भारत में मुस्लमान खतरे में
    पाकिस्तान में मुस्लमान खतरे में (संघ, बजरंगदल और भाजपा यहां नहीं है)
    अमेरिका में मुस्लमान खतरे में (संघ, बजरंगदल और भाजपा यहां नहीं है)
    ब्रिटैन में मुस्लमान खतरे में (संघ, बजरंगदल और भाजपा यहां नहीं है)
    नाइजेरिया में मुस्लमान खतरे में (संघ, बजरंगदल और भाजपा यहां नहीं है)
    ईरान में मुस्लमान खतरे में (संघ, बजरंगदल और भाजपा यहां नहीं है)
    इराक़ में मुस्लमान खतरे में (संघ, बजरंगदल और भाजपा यहां नहीं है)
    म्यांमार में मुस्लमान खतरे में (संघ, बजरंगदल और भाजपा यहां नहीं है)
    श्रीलंका में मुस्लमान खतरे में (संघ, बजरंगदल और भाजपा यहां नहीं है)

    याने कि इनको चाँद पर भेज दो तो भी ये खतरे में ही रहेंगे, इनको हमेशा किसी न किसी से खतरा रहता है और उस खतरे का भय दिखा दिखा कर ये अपने मासूम बच्चों को रोटी कि जगह राइफल पकड़ा देते हैं.

    ओसामा बिन लादेन अफगानी मुसलमानों की पीड़ा दूर करने के लिए आतंकवादी बना.
    मुल्ला उमर अफगानी मुसलमानों की पीड़ा दूर करने के लिए आतंकवादी बना.
    कसाब पाकिस्तानी मुसलमानों की पीड़ा दूर करने के लिए आतंकवादी बना.
    हाफिज सईद पाकिस्तानी मुसलमानों की पीड़ा दूर करने के लिए आतंकवादी बना.
    इशरत जहां हिंदुस्तानी मुसलमानों की पीड़ा दूर करने के लिए आतंकवादी बनी.
    मुहम्मद युसूफ नाइजेरिआई मुसलमानों की पीड़ा दूर करने के लिए आतंकवादी बना.
    तारेक खयात ऑस्ट्रेलिया के मुसलमानों की पीड़ा दूर करने के लिए आतंकवादी बना.

    याने कि इस्लामिक विचारधारा किसी का दुःख दर्द दूर करने के लिए बिनोबा भावे, मार्टिन लूथर, नेल्सन मंडेला, अमृतानंदमयी और बाबा आम्टे पैदा नहीं करती, बल्कि मात्र आतंकवादी ही पैदा करती है. दूसरी और कोई कश्मीरी हिन्दू, अफ़ग़ानी सिक्ख, पाकिस्तानी सिक्ख, श्रीलंकाई बौद्ध, नाइजेरिआई ईसाई, ऑस्ट्रेलिआई ईसाई, बांग्लादेशी हिन्दू कभी अपने कष्टों के निवारण के लिए आतंकवादी नहीं बना.

    निष्कर्ष यह है कि संघ, विहिप, बजरंगदल, भाजपा सब मात्र बहाने हैं, ये ना होता तो भी भारत में इस्लामिक आतंकवाद होना ही था। संघ, विहिप, बजरंगदल, भाजपा ना होते तो भी इस्लामिक आतंकवाद कि छतरी बनकर धर्मनिरपेक्षों, बुद्धिजीविओं और मीडिया को खड़ा होना ही था.